June 13, 2024

अब छोटे कपड़े पहन कर मंदिर में नही कर सकेंगे प्रवेश,पंचायती अखाड़ा महानिर्वाणी और अखाड़ा परिषद ने किया आदेश जारी

देहरादून

पंचायती अखाड़ा महानिर्वाणी और अखाड़ा परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष महंत रविंद्र पुरी ने मंदिरों में प्रवेश को लेकर एक आदेश जारी किया है, जिसमें उन्होंने कहा है कि अखाड़े ने लड़कियों को छोटे कपड़े में आना प्रतिबंधित कर दिया है। बता दें कि दक्ष मंदिर और नीलकंठ महादेव मंदिर सहित टपकेश्वर महादेव में लड़कियों के छोटे कपड़े पहनकर आने पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। पंचायती अखाड़ा महानिर्वाणी और अखाड़ा परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष महंत रविंद्र पुरी ने इसको लेकर एक आदेश जारी किया है, इसमें उन्होंने कहा की अखाड़े में लड़कियों को छोटे कपड़े में आना प्रतिबंधित कर दिया गया है। ऐसी भी बताया गया हैं कि अखाड़ा परिषद के इस फरमान में16 से 30 वर्ष तक के लड़के लड़कियां 80 फीसदी कपड़ों में ही मंदिरों में प्रवेश कर सकेंगे। फिलहाल ये नियम हरिद्वार के प्रसिद्ध दक्ष मंदिर, ऋषिकेश के नीलकंठ और देहरादून के टपकेश्वर मंदिरों में ही लागू होगा और ये तीनों ही शिव मंदिर हैं। ऐसा कई बार देखा गया है कि मंदिरों में छोटे कपड़े पहन कर महिला और पुरुष दोनों ही पहुंच जाते हैं। उसके बाद जब मंदिर प्रशासन उन्हें रोकने की कोशिश करता है तो वह अभिव्यक्ति की आजादी बता कर उनका विरोध करते हैं। बता दें कि मंदिर के प्रवेश द्वार पर नोटिस भी चस्पा किया जा चुका है ।

वहीं मंदिर में छोटे कपड़े पहनने को लेकर आए इस फरमान पर महिला शर्धालुओं ने भी अपनी सहमति दी है। श्रद्धालुओं की माने तो दूसरे धर्मो के लोग मंदिरों में आने पर सभी नियमो का पालन करते है तो फिर अपने सनातन धर्म में क्यों नहीं महिलाए इसका पालन करती है ।